खेती और किसानों के लिए एक वरदान - मोरिंगा यानी सहजन की खेती....


मोरिंगा एक ऐसी फसल है जो बहुत कम लागत , महेनत और हर तरह के जलवायु में होने वाली फसल है। सम्पूर्ण भारत मे इसको कही पर भी उगाया जा सकता है । एक बार लगाने के बाद इसके पौधों की उम्र 4 साल तक होती है। विशेस रूप से कम उपजाऊ जमीन , खारा पानी और बंजर जमीन में भी मोरिंगा आसानी से उग जाता है। साथ ही साथ बहुत कम जमीन में अच्छी पैदावार ली जा सकती है। एक नजर 👇


फसल
मोरिंगा ( पत्तियों के लिए , लीफ़स )
आयु
4 साल
एक एकड़ में बीज लगता है 4 किलो
लागत
12 हजार रुपये ( 3 हजार रुपये किलो बीज )
कटाई
हर 3 महीने में ( साल में 4 बार )
उत्पादन
एक एकड़ में 2 टन सुखी पत्ती प्रति वर्ष
रेट 75 से 85 ₹ किलो सुखी पत्ती
लाभ 1.50 लाख रुपये, प्रति वर्ष एक एकड़ से

मोरिंगा के बीज खेत में लगाने 3 महीने बाद इसकी कटाई होती है। जिसमे जमीन से 4 - 5 सेंटीमीटर ऊपर से पूरे पौधे को काट लिया जाता है और सुखाया जाता है। 1 से 1.5 दिन में जाड़ सुख जाते है और सुखी पत्तियों को अलग कर लिया जाता है। और बेचा जाता है । लीफ़स बेचने के लिए आप हमसे यानी Choudhary Herbals से कांटेक्ट कर सकते है। इस तरह मोरिंगा बहुत ही लाभदायक खेती है ।
मोरिंगा के बीज खेत में लगाने 3 महीने बाद इसकी कटाई होती है। जिसमे जमीन से 4 - 5 सेंटीमीटर ऊपर से पूरे पौधे को काट लिया जाता है और सुखाया जाता है। 1 से 1.5 दिन में जाड़ सुख जाते है और सुखी पत्तियों को अलग कर लिया जाता है। और बेचा जाता है। लीफ़स बेचने के लिए आप हमसे यानी Choudhary Herbals से कांटेक्ट कर सकते है। इस तरह मोरिंगा बहुत ही लाभदायक खेती है।



यदि आप भी मोरिंगा की खेती करना चाहते है तो आप हमसे इसके बीज खरीद सकते है। ऑनलाइन आर्डर कीजिये और मात्र 5 दिन में हम कूरियर के माध्यम से बीज आप तक पहुँचाते है।

Choudhary Herbals
Whatsapp - 8441875926
यहाँ से अभी आर्डर कीजिये -

एक एकड़ के लिए - Click Here
दो एकड़ के लिए - Click Here
आधे एकड़ के लिए - Click Here